ISSN 2277 260X   

 

International Journal of

Higher Education and Research


 

 

Wednesday, 21. March 2018 - 18:45 Uhr

रामनारायण रमण कृत नदी कहना जानती है पर साहित्यिक चर्चा


img-20180311-124345रायबरेली। भीतर से बाहर तक नदी के अविरल, लयबद्ध, कल्याणकारी भाव को समोये वरिष्ठ साहित्यकार श्रद्देय रामनारायण रमण जी का सद्य: प्रकाशित नवगीत संग्रह 'नदी कहना जानती है' का भव्य लोकार्पण लेखागार सभागार में रविवार, 11 मार्च को सम्पन्न हुआ। कार्यक्रम का शुभारंभ माँ सरस्वती की पूजा-अर्चना एवं अतिथियों के स्वागत-सत्कार से हुआ। 
 
इस उत्कृष्ट कार्यक्रम की अध्यक्षता वरिष्ठ साहित्यकार एवं आलोचक डॉ ओमप्रकाश सिंह  ने की, जबकि दिल्ली से पधारे युवा कवि एवं आलोचक डॉ अवनीश सिंह चौहान मुख्य अतिथि एवं  सुपरिचित ग़ज़लगो नाज़ प्रतापगढ़ी  विशिष्ट अतिथि रहे। डॉ ओमप्रकाश सिंह ने कहा कि रमण जी के गीत समकालीन सन्दर्भों को मजबूती से व्यंजित कर रहे हैं और उनमें संवेदना की गहराई है। उन्होंने मजदूर, किसान, गांव, शहर, बेरोजगारी जैसे विषयों को अपने नवगीतों में बखूबी पिरोया है। डॉ अवनीश चौहान ने रमण जी के तमाम नवगीतों के अर्थ खोलते हुए उनकी सुंदर अनुभूतियों की सराहना की और कहा कि उनके साधु स्वभाव का प्रभाव उनके टटके गीतों में भी परिलक्षित होता है। उन्होंने बताया कि रमण जी के गीतों की भाषा प्रयोगधर्मी है और उनके शब्द गहन एवं नवीन हैं। नाज़ प्रतापगढ़ी ने रमण जी के नवगीतों में उर्दू भाषा के शब्दों के संतुलित प्रयोग एवं रचना कौशल की सराहना की। सुविख्यात गीतकार डॉ विनय भदौरिया ने रमण जी के शीर्षक गीत 'नदी कहना जानती है'  की विस्तार से चर्चा की और उनके गीतों को प्रेम में पगा हुआ बताया। सुप्रसिद्ध आलोचक एवं साहित्यकार रमाकांत  ने रमणजी को सर्वथा मौलिक गीतकार मानते हुए कहा कि उन्होंने जो भी लिखा वह अनुभवजन्य सत्य है, इसे पोस्ट-ट्रुथ के युग में भी नाकारा नहीं जा सकता।   
 
चर्चा-परिचर्चा में अन्य साहित्यकारों, विचारकों, आलोचकों ने एक स्वर में कहा कि रमण जी के ताज़ातरीन नवगीत साहित्य, समाज, संस्कृति को पूरी वस्तुनिष्ठता एवं मौलिकता से प्रस्तुत करते हैं। रायबरेली के सशक्त रचनाकार एव साहित्यप्रेमी सर्वश्री आनंदस्वरूप श्रीवास्तव, राजेन्द्र बहादुर सिंह राजन, शिवकुमार शास्त्री, सन्तोष डे, प्रमोद प्रखर, डॉ राकेश चन्द्रा, हीरालाल यादव, दुर्गाशंकर वर्मा, हीरालाल यादव, डॉ राज आदि के सार्थक वक्तव्यों ने लोकार्पण समारोह को जीवंत बना दिया। मंच का शानदार संचालन चर्चित साहित्यकार जय चक्रवर्ती जी एवं डॉ विनय भदौरिया जी ने संयुक्तरूप से किया। आभार अभिव्यक्ति कार्यक्रम संयोजक रमाकान्त जी ने की।


img-20180311-124306img-20180311-123658img-20180311-124140img-20180311-124145img-20180311-124545img-20180312-113933img-20180311-121251


Tags: Hindi Literature Hindi Lyrics Hindi 

268 Views

0 Comments

Monday, 19. March 2018 - 16:27 Uhr

Blurb for Soothing Serenades: Straight from the Heart by Dr Abnish Singh Chauhan


bhaskar-jha-book

Bhaskaranand Jha Bhaskar. Soothing Serenades: Straight from the Heart (A Collection of Love Poems). Paperback: 114 pages. Price: Rs 250/-. Publisher: Authorspress (2018). ISBN-10: 9387281590.ISBN-13: 978-9387281592

Speaking of love may sometimes lead us to the philosophy of Helen Fisher who categorizes it into three: lust, attraction, and attachment— to enjoy twisted desires of mind and body in the temporal world. On the contrary, young and energetic poet Bhaskaranand Jha sets on a journey from ‘being loved’ to ‘being in love’ with the Supreme Being with a conviction that ‘love leads him unto Him above.’ Therefore, he does not waste his time in analyzing ‘what is love’ (John Keats), ‘where is the love?’ (The Black Eyed Peas) and ‘come, my Celia, let us prove’ (Ben Jonson); rather, as his ‘true self gets sparks of divinity’ and thus illuminated like a shining star, he just requests ‘muse’ of his heart to lead him ‘there on the wings of pleasant breezes/ even beyond the ethereal luscious trance!’ Beyond! Why? He himself gives a sound reply— ‘for love alone elevates/ our soul and mind/ with lofty thoughts and ideas/ taking us to ecstatic heights/ of peace and tranquility/ beyond the horizon of desires.’ Consequently, his love is not attraction, attachment or lust, which is bound to physical connections and ultimately leads to nothing, but pain; it is ‘the abstract of bliss’— a reaction of ecstasy, which was fully experienced by Swami Ramakrishna Paramahamsa in his spiritual journey. Hence, it is time to return to reading Jha’s explicit and compelling love poetry as the wish of the Black Eyed Peas has been fulfilled— ‘Father, Father, Father, help us/ send some guidance from above.’

 

- Dr Abnish Singh Chauhan

Editor, Creation and Criticism

(www.creationandcriticism.com)


 


Tags: Poets, Novelists, Writer Indian English Literature 

278 Views

0 Comments

Monday, 19. March 2018 - 16:24 Uhr

दुआओं में याद रखना- डॉ अवनीश चौहान


abnish-singh-chauhan-2देवी अहिल्या विश्वविद्यालय, इंदौर से जब मैंने पीएचडी की थी, तब मेरी गाइड आदरणीया प्रोफेसर प्राची दीक्षित जी एवं एक्स्पर्ट जेएनयू के पूर्व उपकुलपति एवं अंग्रेजी विभागाध्यक्ष श्रद्धेय प्रोफेसर कपिल कपूर जी ने मुझसे कोई गिफ्ट (लिफाफा) नहीं लिया; बस विश्विद्यालय से जो मानदेय मिला, वही लिया। मैंने अपने पिता जी, जिन्होंने स्वयं कभी किसी से रिश्वत या अन्य कोई सेवा नहीं ली, को यह बात बताई, तो बहुत प्रसन्न हुए। मुझसे बोले, "मुझे वचन दो कि जीवन में तुम कभी किसी छात्र या अन्य किसी से कोई गिफ्ट (लिफाफा) या सेवा नहीं लोगे।"

 

आज एस वी विश्विद्यालय, गजरौला, अमरोहा में पीएचडी वाइवा (अंग्रेजी) लेने जाने का सुअवसर मिला। आदरणीया डॉ मधुवाला सक्सेना जी की अध्ययनशील छात्रा उरूज जी ने जब वाइवा के बाद उपहार (लिफाफा) देना चाहा (इसमें उनका कोई दोष नहीं, हो सकता है कि उन्होंने इस चलन के बारे में कहीं से सुन रखा हो), तो मैंने यह कह कर मना कर दिया कि कुछ देना ही है तो मुझे अपनी दुआओं में याद कर लेना। भद्र महिला उरूज जी दुबई से हैं और उन्होंने अपने पति को एक किडनी दान की है। उरूज जी के इस त्याग को प्रणाम कर घर आ गया। आज मन बहुत प्रसन्न है।


 


Tags: Hindi Literature Hindi Memoirs 

270 Views

0 Comments