ISSN: 2277-260X 

International Journal of Higher Education and Research

Since 2012

(Publisher : New Media Srijan Sansar Global Foundation) 

 

 

Blog archive
चर्चित कवि-आलोचक रमाकांत— अवनीश सिंह चौहान

ramakant-1महाप्राण निराला, वाक़िफ़ रायबरेलवी, दिनेश सिंह आदि की विरासत को समृद्ध करने वाले रायबरेली के चर्चित कवि, आलोचक, संपादक रमाकांत समकालीन रचनाकारों में महत्वपूर्ण स्थान रखते हैं। महत्वपूर्ण इसलिए कि वह अपने सृजन में जितने सहज एवं संवेदनशील हैं, असल जिंदगी में उतने ही बेबाक और हरफनमौला हैं। वह जैसा कहते हैं, वैसा करते हैं; वह जैसा करते हैं, वैसा ही दिखते हैं; वह जैसा दिखते हैं, वैसा ही रचते हैं। कहने का आशय यह कि उनकी असल जिंदगी का ताना-बाना और कविता और आलोचना की बुनावट लगभग एक-सी ही है— पूरी तरह से स्पष्ट, पारदर्शी एवं खूबसूरत— दृष्टि हो तो उसे जैसे भी देखना चाहो, देख लो, समझ लो— दृष्टि न हो तो भी उन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता कि कोई उन्हें किस प्रकार से देखता है और उनके बारे में किस प्रकार की राय रखता है।
 
अब प्रश्न उठता है कि आखिर बहुत छोटी-सी जगह से ताल्लुक रखने वाले पेशे से शिक्षक रमाकांत राष्ट्रीय स्तर पर चर्चा में कैसे आये? रमाकांत के चर्चा में आने के दो प्रमुख कारण हैं— पहला यह कि वह आधुनिक बोध के समर्थ कवि हैं और दूसरा यह कि वह अपने गद्य लेखन में बड़े ही बेबाक और तार्किक हैं। यानी कि उन्होंने कविता, हाइकु, गीत, ग़ज़ल आदि के क्षेत्र में जो कुछ भी लिखा, अपनी मौलिक कहन के कारण देशभर में सराहा जा रहा है; उन्होंने अपनी मेधा-सम्पन्न-बेबाक-वैचारिकी को अपनी अनियतकालीन पत्रिका— 'यदि' और सोशल मीडिया के माध्यम से जिस प्रकार से अब तक प्रस्तुत किया है, वह साहित्य जगत में बहस का मुद्दा बन गयी है। ऐसी स्थिति में कई लोग उनकी धारदार वैचारिकी से सहमत हुए, तो कई लोग असहमत भी; कई लोग उस पर मौन हुए, तो कई लोग उससे किनारा कर लिए; कई लोग पक्ष में खड़े हुए, तो कई लोग विरोध में भी आ गए। इन तमाम कही-अनकही स्थितियों के बीच भी उनकी साहित्य जगत में जगह बनती चली गयी— यह बड़ी बात है।
 
हिंदी साहित्य की कई विधाओं में सहज रूप से रचनारत रमाकांत अपने गीतों-गजलों (अन्य विधाओं की तरह ही) में धर्म, जाति, वर्ण, नस्ल, संप्रदाय आदि से परे आदमी और आदमीयत की बात करते हैं— "चलो फिर नवगीत में/ कुछ बात कर लें हम।/ आज फिर अखबार पढ़कर/ मन हुआ गुमसुम/ हर तरफ दंगों-फसादों/ में घिरे हम तुम/ कोई फरियादी सुनाये/ किसको दुख अपना/ बांट लेने की ललक/ अब हो गई है कम" और "सफ़र में हमसफ़र होकर कभी पूछा नहीं उसने/ कि कैसे हाल हैं मेरे कि मेरी ज़िन्दगी कैसी।" आदमी की इस दुःखद स्थिति और आदमीयत के क्षरण पर वक्र दृष्टि रखने वाले रमाकांत जन-मन से जुड़े महत्वपूर्ण सवालों को न केवल बड़ी संजीदगी से उठाते रहे हैं, बल्कि उनके प्रभावी एवं स्थायी हल भी खोजते रहे हैं— "प्रश्न होता नहीं सरल कोईे/ खोजिए तो मिलेगा हल कोई", कारण यह कि वह समकालीन समस्याओं को हल्के में नहीं लेते और न ही उनके निदान को असम्भव समझते हैं। शायद इसीलिये मानवीय करुणा से लैस उनके दार्शनिक एवं समाजोपयोगी चिंतन का सहज शब्दों में अर्थपूर्ण रूपांतरण उनकी रचनाओं को विशिष्ट बना देता है— "तू मुझे इस तरह प्यार कर ज़िन्दगी/ मुझको अच्छा लगे तेरा घर ज़िन्दगी।"
 
20 अक्टूबर 1964 को पूरे लाऊ, बरारा बुजुर्ग, जनपद रायबरेली (उ.प्र.) में जन्मे रमाकांत हिंदी एवं इतिहास में एम.ए. एवं पत्रकारिता में परास्नातक करने के बाद अध्यापन से जुड़ गये। माता-पिता किसान, घर-परिवार में लिखने-पढ़ने का माहौल जैसा कुछ भी था नहीं। हाँ, यह जरूर था कि उन दिनों उनके बड़े भाई रामनारायण रमण जी (जाने-माने साहित्यकार) अपने ढंग से साहित्य-सेवा कर रहे थे। तिस पर भी उन्हें अपने ही दम पर आगे बढ़ना था और वह आगे बढ़े भी। इस हेतु उन्होंने सबसे पहले 2001 में आलोच्य पुस्तक— 'वाक़िफ रायबरेलवी : जीवन और रचना' सम्पादित की, जिसकी साहित्य-जगत में भूरि-भूरि प्रशंसा हुई। उसके बाद उनकी कई अन्य महत्वपूर्ण कृतियाँ— 'हिन्दी के सर्वश्रेष्ठ हाइकु' (हाइकु संकलन, 2002), नृत्य में अवसाद' (हाइकु संग्रह, 2003), 'जमीन के लोग' (डॉ ओमप्रकाश सिंह के साथ रायबरेली के रचनाकारों पर केंद्रित नवगीत संकलन का संपादन, 2003), 'सड़क पर गिलहरी' (कविता संग्रह, 2004), 'जो हुआ तुम पर हुआ हम पर हुआ' (नवगीत संग्रह, 2007), 'बाजार हँस रहा है' (नवगीत संग्रह, 2014) एवं 'रोशनी है मगर अंधेरा है' (ग़ज़ल संग्रह, 2016) प्रकाश में आयीं। इतना ही नहीं, 'नये-पुराने' पत्रिका के यशस्वी संपादक, आलोचक, गीतकवि दिनेश सिंह के दिवंगत होने पर उन्होंने 'यदि' पत्रिका का 'दिनेश सिंह स्मृति विशेषांक' सम्पादित किया और 16 फरवरी 2013 को रायबरेली में इसका भव्य लोकार्पण भी करवाया। अब तक उन्हें 'अम्बिका प्रसाद दिव्य स्मृति रजत अलंकरण' ('सड़क पर गिलहरी' कृति के लिए) एवं ख्यात गीतकवि एवं आलोचक दिनेश सिंह की स्मृति में 'ढाई आखर पुरस्कार' सहित कई अन्य विशिष्ट सम्मानों से अलंकृत किया जा चुका है। संपर्क : 97, आदर्श नगर, मुराई बाग़ (डलमऊ), रायबरेली— 229207 (उ.प्र), मो. 09415958111

30-aug-2020-ramakant
4293 Views
Comments
()
Add new commentAdd new reply
I agree that my information may be stored and processed.*
Cancel
Send reply
Send comment
Load more
International Journal of Higher Education and Research 0